बुधवार, 6 मई 2015

शहीद गजेन्द्र सिंह के परिवार को मुआवजा व सहायता * शहीद गजेन्द्र सिंह किसान सहायता योजना शुरू की दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने * गजेन्द्र सिंह के नाम पर दिल्ली में भव्य स्मारक बनेगा, देश भर के किसानों के लिये नियंत्रण कक्ष व टोल फ्री नंबर रहेगा

लोग है आते रहेंगें , जाते रहेंगें , कुछ लोग इतिहास ए मिसालें लिख गये कुछ लिखते रहेंगें , कुछ इंसान की तरह सिर उठा कर तो बाकी जानवरों की तरह सिर झुका चले जायेंगें
सवाल बन कर छा गया शहीद किसान गजेन्द्र सिंह , सारे देश के किसानों की उम्मीद और आस की अलख जगा गया ,
शहीद गजेन्द्र सिंह की स्मृति में भारत के किसानों को देश में पहली बार मिलेगी अभूतपूर्व सौगात दिल्ली में , दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार से
• शहीद का दर्जा , शहीद गजेन्द्र सिंह के नाम से मिलेगा ताम्रपत्र * शहीद गजेन्द्र सिंह के परिवार को मुआवजा व सहायता * शहीद गजेन्द्र सिंह किसान सहायता योजना शुरू की दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने * गजेन्द्र सिंह के नाम पर दिल्ली में भव्य स्मारक बनेगा, देश भर के किसानों के लिये नियंत्रण कक्ष व टोल फ्री नंबर रहेगा
• नरेन्द्र सिंह तोमर ‘’आनंद’’ ( एडवोकेट )
• Gwalior Times Worldwide News & Broadcasting Services www.gwaliortimes.in

दिल्ली में किसानों की समस्याओं , परेशानीयों और मजबूरियों के खि‍लाफ अपनी शहादत देकर आवाज उठा एक नई उम्मीद व आस की डोर देश भर के किसानों के हाथों में थमा गये , राजस्थान के शहीद किसान गजेन्द्र सिंह की शहादत अंतत: व्यर्थ नहीं गई और किसानों के लिये उम्मीद की एक नई किरन और एक नई सहायता व आशा जगा गई है ।
एक अलख जगा गया जो जीवन देने से पहले, वह अलख एक आस बन गई ।
लोग याद रखेंगें बरसों तक, लहू उसका जहॉं गिरा धरती वह गुलशन हो गई ।।
यूं तो फर्क क्या है इंसान और जानवर के दरम्यां , बस यही सिर उठा कर इंसान जीया करता है ।
जानवर जिन्दगी भर सिर झुकाये रहता है, किसी के फेंकें टुकड़ों पे जीवन जीया करता है ।।
उस फर्क को वह इंसान बता गया, जो सिर उठा कर आया और शान से सिर उठा कर चला गया ।
लोग हैं आते रहेंगें, इंसान होकर जानवर बन कर जीते रहेंगें, जाते रहेंगें जो फेंकें टुकड़े खा गया ।।
दिल्ली सरकार की गजेन्द्र सिंह किसान सहायता योजना – 8 मई को चेक बंटेंगें
दिल्ली की आम आदमी पार्टी की केजरीवाल सरकार ने दिल्ली प्रदेश के किसानों के लिये शहीद हुये राजस्थान के किसान गजेन्द्र सिंह के नाम पर गजेन्द्र सिंह किसान सहायता योजना शुरू की है, इस योजना के तहत किसानों के फसलों में असमय हुई ओलावृष्टिी एवं वारिश के कारण तबाही व नुकसान के एवज में किसानों को 20 हजार रूपये प्रति एकड़ तक की रकम देने की घोषणा की है , इस रकम के चेकों का वितरण 8 मई को दिल्ली में किया जायेगा । इसमें यह प्रावधान भी रखा गया है कि यदि किसी किसान का बहुत कम नुकसान भी हुआ है, तो भी उसे कम से कम हर हाल में 14 हजार रूपये प्रति एकड़ की सहायता राशि‍ केजरीवाल सरकार द्वारा दी जायेगी । इसके अलावा इसमें एक महत्वपूर्ण प्रावधान यह भी रखा गया है कि यदि किसी किसान को उसके नुकसान के आकलन पर या अन्य कोई आपत्ति या विवाद है तो ऐसा मसला किसान ही खुद सुलझायेंगें और फैसला सरकार के या अफसरों के हाथ में नहीं होगा । बल्किा उस किसान के खेत या उस किसान की निकटतम जो भी ग्रामसभा होगी , वह फैसला सुनायेगी और वही फैसला अंतिम होगा । इस योजना में यह प्रावधान भी नियत किया गया है कि इस योजना में किसी भी प्रकार की कोई सहायता ऐसे किसी कार्पोरेट समूह को नहीं मिलेगी जिसकी किसी भी प्रकार की कोई भूमि या कृषि‍ भूमि दिल्ली प्रदेश मे हो , यह सहायता केवल किसानों को ही मिलेगी ।
शहीद किसान गजेन्द्र सिंह के परिवार को भी मुआवजा व सहायता
दिल्ली सरकार राजस्थान के शहीद किसान गजेन्द्र सिंह के परिवार को भी इस अवसर पर मुआवजा व आर्थिशक सहायता राशि‍ का चेक देने के साथ ही गजेन्द्र सिंह को शहीद घोषि‍त करने वाले ताम्रपत्र सहित , शहीद गजेन्द्र सिंह के परिजनों को दिल्ली प्रदेश का सम्मानीय अतिथि‍ का दर्जा देगी । इसके साथ ही अन्य सुविधायें , शहीद किसान गजेन्द्र सिंह के परिवा र को दी जायेंगीं । शहीद किसान के किसी भी आश्रित / परिजन / संतान को 18 वर्ष उम्र होने पर सरकारी नौकरी दी जायेगी, यदि उसकी उम्र इस समय 18 वर्ष से कम है तो उसकी आयु 18 वर्ष की होते ही उसे सरकारी नौकरी दे दी जायेगी ।
शहीद गजेन्द्र सिंह के और देश में जीवन गंवाने वो किसानों के नाम पर बनेगा दिल्ली में भव्य स्मारक व नियंत्रण कक्ष
शहीद किसान गजेन्द्र सिंह के और देश भर के किसानों के नाम पर जिन्होंने किसान समस्या पर अपना जीवन खोया है उनके नाम पर दिल्ली में एक भव्य स्मारक बनेगा और उसमें देश भर के किसानों के लिये एक नियंत्रण कक्ष बनेगा , जिसमें एक टोल फ्री नंबर भी हमेशा चालू रहेगा और देश का कोई भी किसान उस टोल फ्री नंबर पर , नियंत्रण कक्ष में अपनी समस्या या परेशानी बता सकेगा व शि‍कायत आदि दर्ज करा सकेगा जिससे उस पर तुरंत यथोचित कार्यवाही की जा सके , इसके अतिरिक्त उसे खेती से संबंधि‍त किसी भी प्रकार की समस्या या परेशानी होने पर इसी नियंत्रण कक्ष से सम्यक समाधान व सहायता प्राप्त हो सकेगी ।
इस भव्य शहीद गजेन्द्र सिंह किसान स्मारक में शहीद हुये किसान गजेन्द्र सिंह की एक भव्य प्रतिमा लगवाई जायेगी और लेख पटल में गजेन्द्र सिंह के बारे में और उसकी किसानों के लिये दी गई आहूति के बारे में वृत्तांत विवरण व किसान क्रान्ति‍ की अलख ज्योति जलाने वाला बलिदान वृत्तांत अंकित होगा । इसके अलावा देश भर में किसानों द्वारा दी गई आत्माहुतियों को भी श्रद्धानमन अंकित होगा


सोमवार, 4 मई 2015

नेपाल के लिये हो गया .... अब थोड़ा देश के लिये भी हो जाये

नेपाल के लिये हो गया .... अब थोड़ा देश के लिये भी हो जाये
संदर्भ / अपील / किसान / ओलावृष्टिै / 2015/5/13                                                                                                   दिनांक 4 मई 2015
एक विनम्र अपील
समस्त भारत भू भाग के निवासियों एवं विदेशों से
हम संपूर्णत: स्वतंत्र भारत ( महाभारत) के अंतिम व चक्रवर्ती क्षत्रिय राजपूत राजवंश के लोग आप सबसे विनम्र अपील करते हैं कि विगत माह में एवं उससे पूर्व लगातार विगत दस वर्ष से हमारे भारत के , विशेषकर हमारी चम्बलघाटी के किसान , खेत निरंतर प्राकृतिक आपदाओं से ग्रस्त हैं , एक ज्ञात आंकड़े के अनुसार विगत 15 वर्ष में भारत में 3 लाख से ज्यादा किसान फसल , खेत, घर , कर्ज आदि जैसे नुकसानों से पीडि़त होकर आत्महत्यायें कर चुके हैं । अकेले म.प्र. में विगत दस वर्षों में इन प्राकृतिक आपदाओं से मरने एवं आत्महत्यायें करने वाले किसानों की संख्या 15 हजार से ज्यादा है । इस प्रकार से बर्बाद हुये हमारे किसानों को न तो कोई मुआवजा या राहत राशि‍ सरकार की ओर से और न ही किसी अन्य संस्था, संगठन या व्यक्तिो मात्र से आज तक मिली है ।
हमारे संपूर्ण चम्बल क्षेत्र में समस्त कृषि‍ भूमि में सारी फसलों का पूर्णत: ही 100 प्रतिशत नुकसान विगत माह हुई ओलावृष्टिन एवं बरसात के कारण हो गया है । और किसानों के पास खाने को भी एक दाना अनाज शेष नहीं बचा है, उनके भुखमरी में और कंगाली में होने के साथ ही ऊपर से उनकी बेटीयों व बेटों के विवाह भी , बच्चों की पढ़ाई लिखाई आदि शुल्क की व्यवस्था के अभाव में या तो पूरी तरह बंद हो गई है या उनके पिता माता निरंतर आत्महत्यायें कर रहें हैं ।
चूंकि भारत का विशेषकर म.प्र. का सरकारी अमला पूरी तरह भ्रष्ट एवं पत्थर दिल , रहमहीन बेरहम तंत्र के रूप में कार्यरत है । जो कि ए.सी. कमरों में बैठकर फर्जी व काल्पनिक खेत व किसान बर्बादी के आंकड़े गढ़ता रहता है और यदि भूले से कभी कोई किसानों को मिलने वाली राहत या मुआवजा राशि‍ आ भी जाये तो उसे हड़प कर स्वयं को सरसब्ज करता रहता है ।
आप सबने नेपाल के भूकंप पीडि़तों के लिये भारी उदारता व मानवता दिखाकर जो सहयोग किया है , वह हृदय से प्रशंसनीय और सराहनीय है एवं मानवता सदैव इसके प्रति कृतज्ञ रहेगी ।
हम आपसे विनम्र प्रार्थना एवं अपील करते हैं कि हम अपने चम्बल क्षेत्र में बर्बाद हुये , बदहाल किसानों को रोज भूख से मरते, दम तोड़ते , आत्महत्यायें करते देख रहे हैं , यह दुख हमारा असहनीय व वेदनापूर्ण है । अत: जैसी उदारता व मानवता व कृतज्ञता आप सभी ने नेपाल के भूकंप पीडि़तों के लिये दिखाई है , आपसे अनुरोध है कि कृपया उसका मात्र दसवां अंश मात्र सहयोग भी आप हमारे चम्बल के किसानों के लिये कर देंगें तो निसंदेह हमारे चम्बल क्षेत्र के किसानों का वर्तमान संकट हल हो जायेगा और उन्हें भी जीवन प्राप्त हो जायेगा और अगली खेती व फसल तक वे जीवित रह पायेंगें , बेटे बेटियों के विवाह कर सकेंगें , उनकी पढ़ाई लिखाई का शुल्कादि वे दे सकेंगें ।
अस्तु उपरोक्तानुसार अनुरोध है कि कृपया आप जो भी उचित समझें , चम्बल के किसानों के लिये सहायता राशि‍ का चेक/ बैंक पे आर्डर / मनी आर्डर या अन्य प्रकार के किसी माध्यम से हमें भेज दें । हम जिस किसान को आपकी पूरी राशि‍ प्रदान करेंगें , उसका पूरा नाम ब्यौरा , खेत खसरा खाता संख्यादि से आपको अवगत करा देंगें , जिससे आप जब चाहें तब उस किसान से संपर्क कर सकें । भारत का या म.प्र. का या चम्बल का सरकारी तंत्र भ्रष्ट एवं अविश्वसनीय है, अत: निवेदन है कि आप किसी भी किसान की सहायता हेतु सीघा संपर्क किसान से या या सीधे हमसे करें , और सहायता राशि‍ भी तदनुसार प्रदत्त करें या भेजें । विनम्र अनुरोध व हार्दिक अपील के साथ , विनम्रत: धन्यवाद ।
आपका अपना
नरेन्द्र सिंह तोमर ‘’आनन्द’’



रविवार, 3 मई 2015

मुरैना के भ्रष्टों / निकम्मों / अपात्र अयोग्य के नाम ग्वालियर टाइम्स का खुला ऐलान , यदि बच के दिखाओ तो जानें

ऐ भ्रष्ट और महा कुत्ते चाहे बिजली काट के रख , चाहे हजार उपाय कर , श्री कृष्ण को रोकने के कंस ने हजार उपाय किये , मगर फिर भी हुआ वही जो होना था , बंदीगृह के द्वारा खुले और पहरेदार सोये, तेरा बाप भी उतर आये तो भी हमारे वर्ल्डवाइड ब्राडकास्ट और वर्ल्डवाइड रिलीज नहीं रूक सकतीं , ले देख समूचे विश्व में प्रसारित हो चुकीं हैं , ये हमारा करारा झन्नाटेदार तमाचा तेरे मुँह पर .....  याद रखना राजपूत का एक हाथ सात स्वर्ग , सात पाताल सब नपा देता है ....   और हम नपा देंगें
मुरैना की पूरी रात और पूरे दिन चल रही बिजली कटौती के नाम और म.प्र. के मुख्यमंत्री की सी.एम. हैल्प लाइन के सौ फीसदी फेल हो जाने के उपलक्ष्य में आज यूनाइटेड नेशन्स द्वारा घोषि‍त  '' विश्व प्रेस आजादी दिवस '' के शुभ अवसर पर धुआंधार अंधाधुंध ''अटल ज्योति की अटल कटौती'' के नाम चम्बल प्रेस क्लब की ओर से विश्वस्तरीय ब्राडकास्ट व रिलीज ( हकीकत यह है और इसके पीछे कौन है , कुछ नाम बता दिये हैं , कुछ नाम आगे बतायेंगें, हालांकि मामला लोकायुक्त, आर्थ‍िक अपराध अन्वेषण ब्यूरो सहित , आपराधि‍क प्रकरण दर्ज कराने की दहलीज पर पहुँच चुका है ) इसके साथ ही इसमें कार्यवाही न करने / प्रकरण / एफ.आई.आर. दर्ज न करने की सूरत में सी.आर.पी.सी. सेक्शन 482 भी एक्सरसाइज करने की तैयारी की जा चुकी है , उल्लेखनीय है कि मुरैना जिला के पूर्व जिला शि‍क्षा अधि‍कारी हरीदास शर्मा के मामले में धारा 482 एक्सरसाइज की गई थी , जिसमें हरीदास शर्मा सहित करीब 80 लोगों के विरूद्ध एक ही एफ.आई.आर. में 46 अपराध दर्ज हुये थे । प्रकरण अपराध संख्या 663/02 दिनांक 20 सितम्बर 2002 है , इसके उपरांत इसी धारा की एक्सरसाइज मुरैना जिला में दर्ज हुये मुरैना कलेक्टर राधेश्याम जुलानिया द्वारा ( तत्कालीन ) दर्ज कराये गये फर्जी छात्रवृत्त‍ि के 42 मामलों में किया गया था , और हाईकोर्ट ने सारे मामले दोषगत व अवैध दर्ज पाकर सील करवा दिये थे । ग्वालियर टाइम्स मुरैना जिला में हुये बहुत बड़े बड़े और संगीन अपराधों , सरकारी गबनों और भ्रष्टाचार पर पर्दा उठाने के लिये एक नयी पर्दाफाश सीरीज शुरू करने जा रहा है ।
 इस सीरीज में आप मय सबूत जानेंगें और देखेंगें कि कवल अकेले मुरैना जिला में ही अरबों खरबों रूपये का सरकारी गबन भ्रष्टाचार और अंधेरगर्दी और फर्जीवाड़ा हुआ है  जिसमें चंबल कमिश्नर से लेकर प्रमुख सचिव तक स्तर तक के अधि‍कारी ही नहीं मुरैना के सांसद और विधायकों से लेकर अनेक मंत्री और नेता लिप्त हैं , इसमें बिजली विभाग सहित सिंचाई विभाग के भी बहुत तगड़े घोटाले और फर्जीवाड़े शामिल रहेंगें, यह सीरीज अगले हफ्ते से ग्वालियर टाइम्स पर शुरू होगी , अवश्य पढि़ये , फिलवक्त हमारे साथ मुरैना जिला की चल रही बदस्तूर बिजली कटौती का आनन्द लीजिये और यह गीत सुनिये  www.gwaliortimes.in    ;   http://www.facebook.com/TomarRajvansh/

शुक्रवार, 1 मई 2015

दिल्ली की किल्ली : क्यों गाड़ी महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर ने किल्ली , कैसे बने दिल्लीपति , क्यों कहा गया ‘’ दिल्ली फिर होगी तोमर की’’

दिल्ली की किल्ली : क्यों गाड़ी महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर ने किल्ली , कैसे बने दिल्लीपति , क्यों कहा गया ‘’ दिल्ली फिर होगी तोमर की’’
महाभारत सम्राट दिल्लीपति महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर की दिल्ली से चम्बल में ऐसाहगढ़ी तक की यात्रा और ग्वालियर में तोमरों का साम्राज्य- 4 
* पांडवों की तीन भारी ऐतिहासिक भूलें और बदल गया समूचे महाभारत का इतिहास * भारत नाम किसी भूखंड या देश का नहीं , एक राजकुल का है, जानिये क्यों कहते हैं तोमरों को भारत * ययाति और पुरू के वंशज चन्द्रवंशीय क्षत्रिय राजपूत ( पौरव - पांडव ) * दिल्ली की किल्ली का वजन , महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर की तलवार के ऐन बराबर
नरेन्द्र  सिंह तोमर ‘’आनंद’’ ( एडवोकेट )
Gwalior Times   Worldwide News & Broadcasting Services                          www.gwaliortimes.in
( गतांक से आगे भाग-4  ) पिछले अंक में दिल्ली की किल्ली का जिक्र आ चुका है, या कहिये कि ‘’दिल्ली की किल्ली’’ जिसे आज लौह स्तम्भ या भीमलाट कहा जाता है और आज के महरौली नामक स्थान पर कुतुब मीनार जिसे आजकल कहा जाता है , के निकट मौजूद व स्थापित है ( इस स्थान का नाम जबकि वंशावली एवं शास्त्रों एवं प्राप्त शि‍लालेखों एवं दिल्ली की किल्ली पर खुदे लेख के अनुसार अलग है, जिसका जिक्र हम आगे करेंगें, इसे जिसे कुतुब मीनार कहा जाता है,  उसका असल नाम विजय आरोह पूजन स्तंभ या श्री हरिपूजन व ध्वज पताका फहराने के लिये बनवाया गया एक समानांतर आरोही स्थल है , तोमर राजवंश की वंशावली में यह कीर्ति पताका ध्वज स्तंभ एवं श्री हरि दर्शन पूजन का आरोही स्थल के रूप में वर्णिवत है ।
आखि‍र क्यों गाड़ी गई दिल्ली में किल्ली
पांडव – चन्द्रवंशीय क्षत्रिय राजपूत – भारत – तोमर राजवंश द्वारा दिल्ली में किल्ली गाड़े जाने की पीछे अनेक वजह एक साथ सामने आती हैं , स्वयं दिल्ली की किल्ली अर्थात ‘’लौह स्तम्भ ‘’ पर उत्कीर्ण लेख , इंद्रप्रस्थ के किले व लालकोट परिसर में मिले शि‍लालेखों , समकालीन उसी वक्त लिखे गये विभि‍न्न व अन्यान्य ग्रंथों , जैसे पृथ्वीराज रासो और विबुध श्रीधर सहित तोमर राजवंश की वंशावली में ‘’दिल्ली की इस किल्ली ‘’ के गाड़े जाने की वजह और संपूर्ण वृत्तांत का ब्यौरा उपलब्ध है ।
आश्चर्य जनक एवं हैरत अंगेज विषय यह है कि अंग्रेजों ने भारत का पूरा 3 करोड़ 70 लाख वर्ष का इतिहास तो मिटाया सो मिटाया , सामने साक्षात खड़े इमारतों, किलों, भवनों और यहॉं तक कि दिल्ली की किल्ली का इतिहास भी पूरा का पूरा बदलने का प्रयास किया । अनेक फर्जी , औपन्यासिक व काल्पनिक राजाओं के नाम रच कर एक नया उपन्यास भारत का इतिहास के नाम से लिख डाला ।
दिल्ली में किल्ली गाड़े जाने के बारे में किल्ली पर लिखे लेख , और नजदीक स्थापित संस्कृत के अति प्राचीन शि‍लालेख और दिल्ली म्यूजियम में रखे इंद्रप्रस्थ किले व लालकोट परिसर सहित भारत के अन्य भागों से मिले अति प्राचीन शि‍लालेख तोमर राजवंश की वंशावली, विबुध श्रीधर और पृथ्वीराज रासो ग्रंथ में लिखी बातों की न केवल पुष्टि  करते हैं बल्किव सौ फीसदी प्रमाणि‍त भी करते हैं ।
दिल्ली की किल्ली गाड़ने की संक्षेप में यदि वजह व कारण वर्णित किया जाये तो निष्कर्षत: चंद बातें यहॉं टीका रूप में कहेंगें और अगले अंक में संस्कृत में लिखा शि‍लालेख का असल चित्र , उसका असल हिन्दी अनुवाद और बगल में लगाया गया उसी संस्कृत भाषा का ‘’फर्जी अंग्रेजी अनुवाद , यानि संस्कृत में कुछ और लिखा है तथा उसके अंग्रेजी अनुवाद में कुछ और लिखा है , आप स्वयं इन दोनों चित्रों को इस आलेख के अगले अंक में देखगें और संस्कृत के शि‍लालेख का असली हिन्दी अनुवाद भी यहॉं पढ़ेंगें, मजे की बात यह है कि इस संस्कृत शि‍लालेख का हिन्दी अनुवाद वहॉं पर न तो किया गया और न स्थापित किया गया , आप इस जालसाजी , कूटरचना व फर्जीकरण को स्वयं अपनी ऑंखों से यहॉं एकदम स्पष्टत: देखेंगें ।
दिल्ली की किल्ली का वजन , महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर की तलवार के बराबर
सप्त सिन्धुओं यानि सातों समुद्रों , सम्पूर्ण पृथ्वी , संपूर्ण पर्वतों के स्वामी चक्रवर्ती महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर में इतना बल था कि वे अकेले ही केवल एक हाथ से ही अपनी तलवार से पूरी की पूरी अहौक्षणी कोटि सेना को रोक देते थे, महापराक्रमी चन्द्र वंश का यह क्षत्रिय तोमर राजपूत राजा इतना तेजस्वी व महाबली था कि तोमर राजवंश के राजगुरू व्यास जी पराक्रमी चक्रवर्ती सम्राट इन्द्रप्रस्थ दरबार अनंगपाल सिंह तोमर के समक्ष पधारे , तोमर राजवंश में लहराती फहराती सनातन धर्म की धर्मध्वजा , पंचरंगी पताका और अनंगपाल सिंह तोमर का चक्रवर्ती साम्राज्य देख बहुत प्रसन्न हुये और लोक से परलोक तक तोमर राजवंश की लहराती फहराती विजय व धर्म पताका पर अपना हर्ष जताया और महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर के साम्राजय काल में कलयुग के निष्प्रभावी रहने व नियत स्थानों में सीमित रहने पर व्यास जी ने महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर से आशीर्वाद स्वरूप कुछ चर्चायें की, विचार विमर्श किया , और आने वाली भावी होनी , और भविष्य में होने वाली अनहोनी के प्रति सचेत किया,  व्यास जी ने कहा कि अब धर्म का धरा से विदा होने का वक्त आ चुका है, तोमर राजसत्ता का विश्व से साम्राज्य समाप्ति का वक्त आ चुका है ...... 
क्रमश: अगले अंक में जारी

मंगलवार, 28 अप्रैल 2015

राजनीतिक कारणों से ध्वस्त हुई ( की गई) मुरैना जिला की विद्युत सप्लाई

राजनीतिक कारणों से ध्वस्त हुई ( की गई) मुरैना जिला की विद्युत सप्लाई
राजनीतिक कारणों से ध्वस्त हुई ( की गई) मुरैना जिला की विद्युत सप्लाई ...... कल पूरे दिन और आज पूरी रात गुल रही मुरैना की बिजली ....... सुबह सवेरे अभी तक गुल है मुरैना जिला की विद्युत सप्लाई ...... गणेश शंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को लिखेगा पत्र , कई भ्रष्ट , नाकारा और शासकीय सेवा हेतु अयोग्य व अपात्र राजनीतिक दलों से संबद्ध आफिसर्स एवं कर्मचारीयों को मुरैना जिला से तुरंत व तत्काल हटाने की मांग करेगा .... नरेन्द्र सिंह तोमर ''आनन्द'' , अध्यक्ष , प्रेस क्लब , चम्बल संभाग एवं मुरैना जिला

सोमवार, 27 अप्रैल 2015

महिलाओं के लिये ''साध्वी शब्द '' अशास्त्रीय, अपरंपरागत एवं अमान्य है, दिल्ली मसले सुलझाने में राजस्थान के राजपूताने के क्षत्रिय राजपूत रजवाड़े और चंबल का तोमर राजपरिवार भी सारे मामले में सक्रिय भूमिका में रहा , नरेन्द्र सिंह तोमर को ‘’आप’’ द्वारा ‘’ चंबल’’ से दिल्ली में महत्वपूर्ण भूमिका में ले जाने की तैयारी



बेमौसम वारिशों का दौर फिजाओं की ऋतु में, कहर बिजली कटौती का तपती दोपहरी की भीषण गर्मी में जो देखि‍ये तो म.प्र. आईये, सुलझा आखि‍र राजपूताने के दखल से दिल्ली में किसान आत्महत्या का मसला , शहीद के दर्जे के साथ ताम्रपत्र भी
ना सुनवाई को हुकूमत है, न हाकिम फरियाद कोई करने को, जब जुल्मी ही हुकूमत और हाकिम है तो फरियाद किसे करिये, दिल्ली मसले सुलझाने में राजस्थान के राजपूताने के क्षत्रिय राजपूत रजवाड़े और चंबल का तोमर राजपरिवार भी सारे मामले में सक्रिय भूमिका में रहा , नरेन्द्र सिंह तोमर को ‘’आप’’ द्वारा ‘’ चंबल’’  से दिल्ली में महत्वपूर्ण भूमिका में ले जाने की तैयारी
नरेन्‍द्र सिंह तोमर ‘’आनंद’’
Gwalior Times
Worldwide News & Broadcasting Services                          
www.gwaliortimes.in

( प्रथम भाग) किश्तबद्ध आलेख
जल्लाद ही जब हाकिम हो, तो फरियाद क्या करना, अपराधी ही जब हुकूमत हो तो सैयाद से क्या कहना ।
म.प्र. की हालत कोई आजकल से नहीं , पूरे 15 वर्ष से बदस्तूर बेहद खराब व खस्ता है, कम से कम बिजली कटौती के मामले में, बिजली कटौती के मामले में हर चुनाव पर ( सन 2003, सन 2008, सन 2013) म.प्र. की भाजपा सरकार द्वारा या भारतीय जनता पार्टी एक फर्जी व फेक मुहिम चलाती है, हर बार उसका एक अलग नामकरण कर देती है ।
सन 2013 के चुनावों के ऐन पहले ऐसी ही एक मुहिम चलाई गई और नाम दिया गया ‘’अटल ज्योति’’ योजना , इस योजना के बारे में प्रचार प्रसार , उद्घाटन समारोह आदि ( जो कि 90 फीसदी जगहों पर जनरेटर लगा कर किये गये ) पर करोड़ों अरबों रूपये म.प्र. की शि‍वराज सिंह सरकार ने महज बोतल पर लेबल चिपकाने और ढक्कनबाजी में फूंक दिये ।
मगर म.प्र. में बिजली फिर भी नहीं आई, अटल ज्योति फिर भी नहीं आई , अलबत्ता करीब सन 2005 के अंत से म.प्र. में चल रही अघोषि‍त बिजली कटौती का अंतराल काल बहुत बढ़ गया ।
म.प्र. में सन 2005 के पश्चात कभी घोषि‍त बिजली कटौती हुई हो, ऐसा पूरे 10 वर्ष के कालखंड में तो कभी हुआ नहीं ।
अलबत्ता अफसरशाही और नेतृत्व व राजनैतिक भ्रष्टाचार, लालफीताशाही म.प्र. पर इस कदर हावी हुई कि ना जनता की सुनने वाला कोई म.प्र. में हजारों किलोमीटर दूर तक बचा और ना कार्यवाही करने वाला ।
अंजाम ये हुआ कि 15 वर्ष से बिजली को तरस रहे इस म.प्र. में इतने समय खंड में आज तक वह दिन आया ही नहीं जब बिजली सप्लाई म.प्र. के एक भी शहर या गॉंव में कभी पूरे दिन या पूरी रात आई हो या रही हो, अपवाद स्वरूप यदि शहर भोपाल के चंद हिस्सों को छोड़ दें या इंदौर ग्वालियर या जबलपुर के चंद हिस्सों को छोड़ दें तो समूचे म.प्र. में ऐसा कोई स्थान नहीं मिलेगा , जहॉं से बिजली लापता न हो ।  .....       शेष अगले अंक में जारी
आखि‍र राजपूतों के दखल से सुलझ गया , दिल्ली की आप रैली में किसान गजेन्द्र सिंह की आत्महत्या का मामला
दिल्ली से बड़ी खबर है कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी की किसान रैली में राजस्थान के दौसा जिला के किसान गजेन्द्र सिंह द्वारा आत्महत्या का मामला तूल पकड़ जाने और समस्या बन जाने व समाधान से बाहर हो जाने पर जब कोई राह केजरीवाल सरकार के सामने नहीं रही तब केजरीवाल के काम राजपूताने के राजपूत ही आये, राजस्थान के राजपूताने के क्षत्रिय राजपूत रजवाड़ों से बेहतर संबंध रखना केजरीवाल के लिये वक्त पर मुफीद साबित हुआ, और वक्त जरूरत न केवल काम आ गया बल्क‍ि एक बहुत बड़े संकट से निजात दिलाकर , आने वाले वक्त में राजस्थान , म.प्र. और उ.प्र. हरियाणा, बिहार, पंजाब में आम आदमी पार्टी की जड़े पुख्ता करने का संकेत देक एक रास्ता बना गया ।
केजरीवाल सरकार के राजपूत नेता संजय सिंह , राजेन्द्र प्रताप सिंह , दिल्ली सरकार के एक राजपूत  मंत्री राजस्थान के दंबंग व हुकुमदार असल क्षत्रिय राजपूत नेताओं व रजवाड़े के सदस्यों के प्रतिनिधि‍ मंडल के साथ पीडि़त परिवार के घर पहुँचें व स्व. गजेन्द्र सिंह के परिवार के सदस्यों से मुलाकात की, और पारस्परिक वार्ता व अपेक्ष‍ित घोषणाओं एवं सहायता देने के ताम्रपत्र दिये जाने की घोषणा के साथ मामले का पटाक्षेप हो गया ।
इस कार्यवाही या मुलाकात के लिये चम्बल से दिल्लीपति महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर के वंशज नरेन्द्र सिंह तोमर को भी फोन लगा कर बुलाया गया, लेकिन नरेन्द्र सिंह तोमर की तत्समय बहुत अधि‍क व्यस्ततावश उन्होनें कहा कि ‘’ आप लोग चले जाईये , कोई दिक्कत हो या समस्या न सुलझे तो फोन से ही हमारी बात करा दें, इसके साथ ही नरेन्द्र सिंह तोमर ने पीडि़त परिवार को सहायता व मदद दिये जाने के संबंध में अपनी कुछ राय व मशविरे दिये’’  , जिसे आप नेताओं व राजस्थान के राजपूताने के क्षत्रिय राजपूत रजवाड़ों ने जस का तस शामिल व स्वीकार कर लिया , उल्लेखनीय है कि इंद्रप्रस्थ पति पांडव अर्जुन , दिल्लीपति महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर के वंशज ‘’जिन्हें भारत’’ कहा पुकारा जाता है और उन्हीं के कारण इस देश का नाम भारत है , उनके आदिकाल से नियुक्त किये गये वंशावली लेखक ( जगा) राजस्थान के दौसा जिला में ही रहते हैं और तोमर राजपरिवार एवं पांडव वंश की सारी वंशावली दौसा जिला के राजपूताने में ही आदिकाल से नियुक्त किये गये वंशावली लेखक परिवार द्वारा ही आज दिनांक तक दर्ज की जाती रहीं हैं । और तोमर राजवंश को समस्त राजपूताने में मान्य पूज्य व चक्रवर्ती सम्राट के रूप में क्षत्रियों राजपूतों में भारत ( महाभारत स्वामी ) के रूप में दर्जा व मान्यता है , और उनकी बात या इच्छा या आदेश समस्त क्षत्रिय राजपूत बेहद खुशी से व स्वेच्छा से मानते व स्वीकारते हैं ।
केजरीवाल सरकार द्वारा अब किसान गजेन्द्र सिंह को किसान आत्महत्याओं के बारे में देश भर में अलख जगा कर सारे देश का ध्यान खींच कर क्रान्ति‍ जगाने वाला महान देशभक्त शहीद का दर्जा दिया जायेगा, इसके अतिरिक्त शहीद गजेन्द्र सिंह के परिवार के एक आश्रित को सरकारी नौकरी देने के साथ ही कई अनेक अन्य सहायताओं व घोषाणाओं का ताम्रपत्र शहीद गजेन्द्र सिंह के परिवार को दिया जायेगा । इस संबंध में बाकायदा दिल्ली सरकार की केबिनेट की बैठक में इस आशय का प्रस्ताव विधि‍वत अनुमोदित किया जायेगा ।   
महिलाओं के लिये ''साध्वी शब्द '' अशास्त्रीय, अपरंपरागत एवं अमान्य है
- नरेन्द्र सिंह तोमर ''आनन्द''
शब्द ''साध्वी'' सनातन धर्म परंपरा में मान्य व स्वीकृत एवं प्रमाणित शब्द नहीं है, कुआरी स्त्र‍ियों, अविवाहित स्त्र‍ियों के लिये ''कुमारी पूजन '' ''देवी स्वरूपा पूजन की परंपरा अवश्य मान्य है , किन्तु उनका सन्यास या विरक्त‍ि विधान या तप विधान शास्त्रीय एवं राजाज्ञा या शास्त्राज्ञा अनुकूल व वर्णि‍त , प्रमाणिक एवं मान्य यथोचित नहीं है । कुमारी, कुआरी, या अविवाहित नारी का तप व सन्यास '' शास्त्र द्वारा शिखंडी'' के नाम से व स्वरूप से वर्ण‍ित व मान्य परंपरागत है, इसके अतिरिक्त भारत का कोई भी प्राचीन शास्त्र शब्द साध्वी को स्वीकार व मान्य या उल्लेख नहीं करता, कुमारी देवीयों के रूप में जिनके यंत्र केवल मात्र अधोमुखी त्रिकोणों द्वारा लिखे व बनाये जाते हैं , वे साक्षात अवतार या देवी रूवरूप में विद्यमान मान्य व स्वीकृत हैं ।
इसी प्रकार विधवा महिलाओं या रजो व काम निवृत्त महिलाओं के लिये भी शब्द साध्वी प्रयुक्त व उपरोक्तानुसार ही प्रयोग्य नहीं है । पथरा जाना या पत्थर की हो जाना ( भले ही वह ईश्वर की साधना या तपस्यारत हो जाये) शब्द सनातन धर्म इस श्रेणी की महिलाओं के लिये प्रयोग करता है ।
पति विरक्त, परित्यक्त , गार्हस्थ्य विहीन या त्याज्य महिलाओं या स्वयं परित्याग करके आई हुई महिलाओं के लिये , जैसे कि गौतम ऋषि की पत्नी अहिल्या के लिये या माता शबरी के लिये भी साध्वी शब्द प्रयोग नहीं किया गया , साध्वी शब्द इस श्रेणी की महिलाओं के लिये भी प्रयोग नहीं किया जाता , इन्हें भी पथराई हुई या पत्थर में तब्दील नारी की श्रेणी में रखा गया है , देशी देहाती प्रचलित शब्द व भाषा में इनमें से कुछ के लिये परंपरागत शब्द ''काग बिड़ारनी'' प्रयोग किया जाता है ।
श्रीमद भगवदगीता में भी तथा अन्यान्य सनातन धर्म के ग्रंथों व शास्त्रों में '' शब्द साधु '' मान्य व स्वीकार है , जिसका तात्पर्यि‍क अर्थ .... सज्जन , निर्मल, निष्कपट, निश्छल , निष्काम, आसक्त‍ि हीन, मनुष्य के लिये गीता में वर्णि‍त धर्माचरण युक्त पुरूष के लिये किया गया व अन्य शास्त्रों ग्रंथों व राजाज्ञाओं के अनुसार मान्य व स्वीकृत है , जबकि शब्द साध्वी अप्रचलन व अमान्य व अस्वीकृत है , महिला के रूप कुल 84 होते हैं, जिसमें से उसे या तो 64 योगनीयों ( जो‍गिन ) के रूप में या दस महाविद्याओं के स्वरूप में या आदि शक्त‍ि या त्रिमहामाया ( एक ही रूप है ) के रूवरूप में, या नौ देवियों के रूप में स्वीकार व मान्य किया जाता है , इन 84 रूपों के अलावा महिलाओं को अन्य जिन रूपों में मान्य व स्वीकार किया  गया है उनमें देवी के विभि‍न्न अवतार, यक्षणी, जिन्न, गंधर्व- अप्सरा, किन्नरी, पिशाचणी, शंखणी, हस्तिनी , पद्म‍िनी, , वृषणी, अश्वणी, चन्द्रमा की सत्ताइस पत्न‍ियों आदि आदि सहित 108 अन्य स्वरूप भी स्वीकार किये गये हैं , स्त्री का धर्माचरण उसके पति से सहबद्ध होता है, बिना पति की नारी धर्म विहीन रहती है, पति चिन्तन और पति स्मरण ध्यान व वंदन समर्पण ही नारी का सर्वश्रेष्ठ धर्माचरण एवं उसके मोक्ष मार्ग का सर्वोच्च साधन है ( विशेष आलेख इस विषय पर जल्दी ही लायेंगें)    ...... जय श्री कृष्ण .... जय जय श्री राधे - नरेन्द्र सिंह तोमर ''आनन्द''



रविवार, 26 अप्रैल 2015

प्रेस क्लब जिला मुरैना की जिला कार्यकारणी घोषि‍त , गणेश शंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब की शहर इकाई भी घोषि‍त की गई

प्रेस क्लब जिला मुरैना की जिला कार्यकारणी घोषि‍त , गणेश शंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब की शहर इकाई भी घोषि‍त की गई
मुरैना 25 अप्रेल 15 . गणेश शंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब की मुरैना जिला की जिला कार्यकारणी एवं शहर मुरैना की शहर कार्यकारणी , प्रेस क्लब के चम्बल संभाग अध्यक्ष एवं मुरैना जिलाध्यक्ष नरेन्द्र सिंह तोमर ''आनन्द'' द्वारा निम्नानुसार घोषि‍त कर दी है ।