सोमवार, 20 फ़रवरी 2017

उड़ान कोचिंग एवं अल्पविराम कार्यक्रम पर फीडबैक सेशन 22 को

उड़ान कोचिंग एवं अल्पविराम कार्यक्रम पर फीडबैक सेशन 22 को


-
ग्वालियर | 20-फरवरी-2017
 
   
    जिला प्रशासन द्वारा संचालित “उड़ान” कोचिंग में अध्ययनरत विद्यार्थियों से फीडबैक लिया जायेगा। इसके लिये 22 फरवरी को अपरान्ह 4 बजे कलेक्ट्रेट स्थित स्व. टी धर्माराव सभागार (जन-सुनवाई कक्ष) में फीडबैक सेशन रखा गया है। “फीडबैक डिस्कसन एण्ड अल्पविराम फॉर हैप्पीनेस उड़ान” सेशन में  डॉ. संजय गोयल भी मौजूद रहेंगे। साथ ही आनंदम के नोडल अधिकारी एवं अपर कलेक्टर श्री शिवराज वर्मा भी इस कार्यक्रम में प्रतिभागियों से चर्चा करेंगे।

वन-स्टेप सेंटर एवं ऊषा किरण केन्द्र पर दो दिवसीय कार्यशाला आज से

न-स्टेप सेंटर एवं ऊषा किरण केन्द्र पर दो दिवसीय कार्यशाला आज से


-
ग्वालियर | 20-फरवरी-2017
 
   वन-स्टेप सेंटर एवं ऊषा किरण केन्द्र विषय पर 21 व 22 फरवरी को प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित होगी। यह कार्यशाला 21 फरवरी को प्रात: 10 बजे होटल तानसेन रेसीडेंसी में शुरू होगी। यह कार्यशाला महिला सशक्तिकरण विभाग के तत्वावधान में आयोजित हो रही है।

ग्वालियर व्यापार मेला का समापन

ग्वालियर व्यापार मेला का समापन


ग्वालियर का मेला यहाँ के लोगों की शान एवं जीवन शैली का हिस्सा है – श्री चौधरी, उत्कृष्ट कार्य करने वाले, प्रदर्शनी तथा विभिन्‍न सेक्टर में लगे, शोरूम, दुकानों को मिले पुरस्कार
ग्वालियर | 20-फरवरी-2017

  ग्वालियर का मेला यहाँ के लोगों की शान एवं जीवन शैली का हिस्सा है। हम लोग वर्ष भर मेले का इंतजार करते हैं। यहाँ तकनीक अपने ईष्ट मित्र, यारों, दोस्तों के साथ-साथ बहन-बेटियों को भी मेले के अवसर पर बुलाते हैं। यह बात ग्वालियर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री अभय चौधरी ने श्रीमंत माधवराव सिंधिया ग्वालियर व्यापार मेला के समापन समारोह में मुख्य अतिथि बतौर कही। कार्यक्रम की अध्यक्षता विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री राकेश जादौन ने की।
विशिष्ट अतिथि के रूप में पुलिस महानिरीक्षक श्री अनिल कुमार, कलेक्टर डॉ. संजय गोयल, पुलिस अधीक्षक डॉ. आशीष व मेला प्राधिकरण के अध्यक्ष एवं ग्वालियर संभाग के कमिश्नर श्री शिवनारायण रूपला, जिला पंचायत सीईओ श्री नीरज कुमार सिंह, नगर निगम आयुक्त श्री अनय द्विवेदी सहित व्यापार मेला संघ के पदाधिकारी व बड़ी संख्या में दुकानदार उपस्थित थे। समापन समारोह कुसमाकर रंगमंच सभागार में सम्पन्न हुआ।
    ग्वालियर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री अभय चौधरी ने कहा कि मेले के स्वरूप को आप सभी ने शताब्दी वर्ष के पहले और उसके बाद में देखा है। उन्होंने कहा कि मेला का आकर्षण ऊँचाईयों को छू रहा है। मैं स्वयं 50 वर्षों से मेला देखने आ रहा हूँ। ग्वालियर मेला ऐतिहासिक मेला है। यह 110 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुका है। हमने अपने जीवनकाल में मेले में अनेक उतार-चढ़ाव और इसके स्वरूपों को करीबी से देखा है। यह हमारी कला संस्कृति और सामाजिक संस्कारों का संगम है। उन्होंने कहा कि हमारा बहुत बड़ा सौभाग्य है कि आज हम इस ऐतिहासिक मेला का समापन कर रहे हैं। इस अवसर पर श्री चौधरी ने मेला आयोजन पर सुझाव देते हुए कहा कि आगामी मेला को दो अलग-अलग सेक्टरों, जिसमें एक सेक्टर झूले, खेल-तमाशों का रहे तो दूसरा सेक्टर दुकानों, शोरूमों का रहे। उन्होंने कहा कि हमें आगे चलकर दुकानों के शोरूमों को भी बदलने की आवश्यकता होगी। दुकानें गहरी एवं शेड से बनी हों ताकि दुकानदार इस लम्बी अवधि के मेला में रह सकें।
    इससे पूर्व कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री राकेश जादौन ने सभी को बधाई देते हुए कहा कि सभी के आपसी अद्भुत समन्वय से ही मेला बगैर किसी घटना दुर्घटना के सफल हुआ है। उन्होंने इस मौके पर कहा कि आगामी मेला और कैसे बेहतर तरीके से लगे, इस पर विस्तार से मंथन करने की जरूरत है। इसमें आम लोगों को भी जोड़ने का प्रयास किया जाए ताकि उनके सुझावों को भी बेहतर मेला लगाने हेतु सम्मिलित किया जाए।
    इससे पूर्व मेला विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष एवं संभाग आयुक्त श्री शिवनारायण रूपला ने मेला के सफल आयोजन के लिये सभी की भूरि-भूरि प्रशंसा की। कमिश्नर ने कहा कि ग्वालियर मेला ग्वालियर की शान है। यह मेला के लोगों की जीवन शैली का हिस्सा है। आस-पास के व्यापारी पीढी दर पीढी मेला की शान बढ़ाने के लिये आते हैं। उन्होंने कहा कि इस मेला को और भव्य आकर्षण देने के लिये हर संभव प्रयास किए जायेंगे। इसमें आप सभी का सहयोग अपेक्षित रहेगा।
    कलेक्टर डॉ. संजय गोयल ने कहा कि मेला की उच्च गुणवत्ता (क्वालिटी) को लेकर इस बार सभी खुश नजर आ रहे हैं। मुश्किलों के बाद बेहतर मेला का आयोजन इस बार हुआ है। सफाई एवं लाईट सहित अन्य व्यवस्थायें बेहतर रही है। मेला व्यापारी संघ के सचिव श्री महेश मुदगल ने मेला की सफलता के लिये मेला प्राधिकरण के अध्यक्ष संभागीय कमिश्नर श्री रूपला सहित सभी प्रशासनिक अधिकारियों व व्यापारियों को बधाई दी और उन्होंने कहा कि जन आकांक्षाओं के अनुरूप मेला सम्पन्न हुआ। समापन समारोह को पुलिस महानिरीक्षक श्री अनिल कुमार और पुलिस अधीक्षक डॉ. आशीष ने भी संबोधित किया। अंत में मेला सचिव ने सभी के प्रति आभार व्यक्त किया।
    मेला समापन अवसर पर मेला के सफल आयोजन के लिये उत्कृष्ट सेवा देने वाले अधिकारियों को शील्ड प्रमाण-पत्र देकर सम्मानित किया गया। इसी तरह उत्कृष्ट प्रदर्शनी, शोरूम के दुकानदारों को भी प्रमाण-पत्र शील्ड देकर सम्मानित किया गया।

जेएएच समूह में चल रहे विकास कार्यों की समीक्षा बैठक 22 फरवरी को

जेएएच समूह में चल रहे विकास कार्यों की समीक्षा बैठक 22 फरवरी को


-
ग्वालियर | 20-फरवरी-2017
 
   
    जेएएच समूह में चल रहे विकास कार्यों की समीक्षा बैठक 22 फरवरी को अपरान्ह 4 बजे गजराराजा चिकित्सा महाविद्यालय के सभाकक्ष में आयोजित की गई है। कार्यों की समीक्षा ग्वालियर संभाग के कमिश्नर एवं स्वशासी संस्था के अध्यक्ष श्री शिवनारायण रूपला करेंगे।
    बैठक में मेडीकल कॉलेज की समस्त क्लीनिकल विभागों के विभागाध्यक्ष उपस्थित रहेंगे।

आदर्श आंगनबाड़ी केन्द्र का प्रशिक्षु आईएएस अधिकारियों द्वारा अवलोकन

आदर्श आंगनबाड़ी केन्द्र का प्रशिक्षु आईएएस अधिकारियों द्वारा अवलोकन


बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, लाडो, लालिमा अभियान की प्रस्तुति को सराहा
ग्वालियर | 20-फरवरी-2017
 
   
    कलेक्टर डॉ. संजय गोयल के मार्गदर्शन में भारतीय प्रशासनिक सेवा के वर्ष 2015-16 के फैस-1 कार्यक्रम के प्रशिक्षु 18 सदस्यीय आईएएस अधिकारियों के दल को कलेक्ट्रेट सभागार में लाडो अभियान, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान में जिले की उपलब्धियों पर महिला एवं बाल विकास विभाग, स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रस्तुतिकरण देने के साथ-साथ आदर्श आंगनबाड़ी केन्द्रों का भ्रमण कराया गया। जिसकी प्रशिक्षणार्थियों द्वारा सराहना की गई।
    जिला कार्यक्रम अधिकारी एकीकृत बाल विकास सेवा श्री बृजेश त्रिपाठी से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रशिक्षु आईएएस के दल के द्वारा आंगनबाड़ी केन्द्र टापू मोहल्ला एवं अवाड़पुरा का भ्रमण किया गया तथा भ्रमण के दौरान आदर्श केन्द्र की व्यवस्थाओं को सराहा गया। इस दौरान दल के सदस्यों ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/सहायिका लाभार्थियों से आवश्यक चर्चा करते हुए मौके पर वजन सत्यापन भी किया। अवाड़पुरा आंगनबाड़ी केन्द्र में बड़ी संख्या में उपस्थित गर्भवती, शिशुवती महिलाओं की काउसिंग दल की महिला सदस्यों द्वारा स्वयं करते हुए उन्हें स्वच्छता अभियान, उदिता एवं लालिमा अभियान का लाभ उठाने का अनुरोध किया।
    कलेक्टर डॉ. संजय गोयल द्वारा कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में दल के सदस्यों को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के उस प्रस्तुतीकरण से अवगत कराया गया जिसे भारत सरकार के समक्ष प्रस्तुतीकरण पर जिले को पुरस्कृत किया गया है। प्रस्तुतीकरण के समय मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री नीरज कुमार सिंह ने भी दल का आवश्यक मार्गदर्शन किया। इस दौरान जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री बृजेश त्रिपाठी, जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी श्री शालीन शर्मा, पीसी-पीएनडीटी नोडल अधिकारी डॉ. बिंदु सिंघल, परियोजना अधिकारी श्री अनुपम शर्मा सहित दल के सभी सदस्य उपस्थित थे।

ऑनलाइन पंजीयन न कराने वाले अल्ट्रासाउण्ड सेंटर का पंजीयन निरस्त करें – कलेक्टर


पीसी-पीएनडीटी एक्ट की जिला सलाहकार समिति की बैठक आयोजित


ग्वालियर | 20-फरवरी-2017

   जो अल्ट्रासाउण्ड सेंटर ऑनलाइन पंजीयन नहीं करा रहे हैं, उनके खिलाफ पीसी-पीएनडीटी एक्ट के उल्लंघन की कार्रवाई करें। साथ ही उनकी मशीन का पंजीयन निरस्त करने की कार्रवाई भी की जाए। यह निर्देश कलेक्टर डॉ. संजय गोयल ने जिला स्तरीय पीसी-पीएनडीटी सलाहकार समिति की बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दिए।
   सोमवार को यहाँ कलेक्ट्रेट के सभागार में आयोजित हुई बैठक में कलेक्टर ने यह भी कहा कि पीसी-पीएनडीटी एक्ट जिला सलाहकार समिति के गठन के लिये विधिवत विज्ञापन जारी करें। मालूम हो वर्तमान जिला सलाहकार समिति के सदस्यों का कार्यकाल अगस्त 2017 में पूर्ण होने जा रहा है। बैठक में पीसी-पीएनडीटी एक्ट को और प्रभावी ढंग से लागू करने तथा बेटियों के प्रति सकारात्मक वातावरण निर्मित करने के लिये जन जागरण कार्यक्रम चलाने पर बल दिया गया। साथ ही गत एक फरवरी को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम के तहत अग्रिम कार्ययोजना बनाने के लिये आयोजित हुई कार्यशाला में आए सुझावों पर भी बैठक में विचार मंथन किया गया। साथ ही बहुत से सुझावों को कार्यशाला में शामिल करने पर सैद्धांतिक सहमति जताई गई। कलेक्टर ने अल्ट्रासाउण्ड सेंटर के नियमित निरीक्षण पर भी जोर दिया।
   बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस एस जादौन, सिविल सर्जन डॉ. डी डी शर्मा, सलाहकार समिति की सभापति डॉ. अनीता श्रीवास्तव, नोडल अधिकारी डॉ. बिंदु सिंघल और डॉ. कुंदवानी सहित समिति के अन्य सदस्यगण मौजूद थे।

जिला चिकित्सालय की प्रसूतिगृह में बनेगी नई ओपीडी विंग

जिला चिकित्सालय की प्रसूतिगृह में बनेगी नई ओपीडी विंग


कलेक्टर की अध्यक्षता में रोगी कल्याण समिति की बैठक आयोजित
ग्वालियर | 20-फरवरी-2017
 
   
    जिला चिकित्सालय मुरार के प्रसूति गृह में अलग से ओपीडी का निर्माण किया जायेगा। लगभग साढ़े 9 लाख रूपए की लागत से यह ओपीडी भी तैयार होगी। कलेक्टर डॉ. संजय गोयल की अध्यक्षता में आयोजित हुई रोगी कल्याण समिति की बैठक में इस आशय का निर्णय लिया गया है। डॉ. गोयल ने जनभागीदारी योजना से यह काम कराने के निर्देश दिए हैं।
    सोमवार को यहाँ कलेक्ट्रेट के सभागार में आयोजित हुई बैठक में जिला चिकित्सालय की कलर डॉकलर मशीन के लिये कार्डिक प्रोब खरीदने की मंजूरी भी दी। उन्होंने कहा कि क्रय समिति से प्रमाण पत्र लेकर एवं वित्तीय प्रावधानों का पालन करते हुए खरीदी की जाए। साथ ही कहा कि यह सुनिश्चित करें कि इस कलर डॉकलर मशीन का उपयोग नियमित रूप से हो। कलेक्टर ने जिला चिकित्सालय में मेकनाइज्ड लाउण्ड्री की स्थापना करने की भी सैद्धांतिक मंजूरी दी। उन्होंने कहा कि विधिवत टेंडर जारी कर लाउण्ड्री का काम करायें।
    कलेक्टर ने जिला चिकित्सालय की नई अल्ट्रासाउण्ड मशीन खराब होने की बात सामने आने पर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कहा कि वर्ष 2015 में खरीदी गई इस मशीन के खराब होने का करण बतायें कि यह मशीन इतनी जल्दी क्यों खराब हुई। साथ ही टेंडर की शर्तों के अनुसार संबंधित कंपनी से मशीन ठीक कराई जाए। रोगी कल्याण समिति द्वारा जिला चिकित्सालय के लिये 100 नए गद्दे और चादरें खरीदने की मंजूरी भी दी। साथ ही शौचालय, पेयजल इत्यादि बुनियादी सुविधाओं से संबंधित कार्यों की भी  सैद्धांकित सहमति दी। कलेक्टर ने कहा कि जिला चिकित्सालय के अलावा शहर के अन्य प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों (डिस्पेंसरी) में भी मरीजों की सुविधाओं का पूरा ध्यान रखें। साथ ही जरूरी बुनियादी सुविधायें जुटाई जाएँ। इस कड़ी में उन्होंने लक्ष्मीगंज प्रसूतिगृह और माधवगंज डिस्पेंसरी में मांग के अनुसार एसी और वाटरकूलर लगाने के प्रस्ताव का अनुमोदन किया। उन्होंने कहा इन सभी कामों को आंजाम देने में वित्तीय प्रावधानों का पालन करें। साथ ही क्रय समिति से भी अनुमोदन करायें।
    बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस एस जादौन एवं जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन डॉ. डी डी शर्मा सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे।